Sunday, November 18, 2018

कोर्ट में मुकरने पर 'रेप पीड़िता' से वापस लिया मुआवज़ा: इसके बाद जो हुआ,जानकर हैरान हो जाएँगे|

कोर्ट में मुकरने पर 'रेप पीड़िता' से वापस लिया मुआवज़ा: प्रेस रिव्यू

इंडियन एक्सप्रेस की ख़बर के मुताबिक़, महाराष्ट्र की एक विशेष अदालत ने एक रेप पीड़िता से दो लाख का मुआवज़ा वापस लेने का आदेश दिया है.
ये इस तरह का पहला ऐसा मामला है, जहां कोर्ट ने ऐसा फ़ैसला सुनाया है क्योंकि पीड़िता अपने बयान पर कायम नहीं रही.
इस केस में पीड़िता ने अप्रैल 2015 में एफ़आईआर दर्ज करवाई थी. पीड़िता का आरोप था कि अभियुक्त ने शादी का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाए और बाद में उसके माता-पिता के तैयार ना होने पर शादी से मुकर गया.
पीड़िता उस वक़्त 17 साल की थी. कोर्ट में अपने बयान में उसने कहा, ''एफ़आईआर के बाद लड़के के माता-पिता मान गए. जनवरी 2017 में शादी भी हो गई. हमारा एक बच्चा भी है.''
साथ ही पीड़िता ने कहा कि वह अपराध के वक़्त नाबालिग नहीं थी और ना ही उसके साथ रेप हुआ. कलकत्ता हाई कोर्ट के नाम बदलने की तैयारी

(आज कि बड़ी खबर पढने के लिए Today पर विजिट करे.. )

दैनिक जागरण अख़बार में छपी ख़बर के मुताबिक़, शहरों के नाम बदलने के बाद अब बारी बॉम्बे, कलकत्ता और मद्रास उच्च न्यायालयों की आ सकती है.
इस बारे में सरकार संसद में नए सिरे से विधेयक लाने जा रही है. इन शहरों के नाम पहले ही बदले जा चुके हैं, लेकिन इनमें स्थित राज्यों के हाईकोर्ट के नाम शहरों के पुराने नामों के आधार पर चल रहे हैं.
लोकसभा में 19 जुलाई 2016 को हाईकोर्ट (नाम में परिवर्तन) विधेयक-2016 पेश किया गया था. इसमें कलकत्ता हाईकोर्ट को कोलकाता, मद्रास को चेन्नई और बॉम्बे हाईकोर्ट का नाम मुंबई हाई कोर्ट किए जाने का प्रस्ताव था.
लेकिन तमिलनाडु सरकार ने केंद्र सरकार से मद्रास हाई कोर्ट का नाम 'हाई कोर्ट ऑफ़ तमिलनाडु' रखने का आग्रह किया.

इसी तरह पश्चिम बंगाल सरकार चाहती थी कि कलकत्ता हाई कोर्ट का नाम 'कोलकाता हाईकोर्ट' किया जाए. मगर कलकत्ता हाई कोर्ट अपना नाम बदलने को तैयार नहीं हुआ.
रिजर्व बैंक और सरकार के बीच बैठक आज
नवभारत टाइम्स के मुताबिक़, रिज़र्व बैंक और सरकार के बीच जारी खींचतान पर सोमवार को होने वाली बैठक में विराम लग सकता है.
सूत्रों का कहना है कि सोमवार को रिजर्व बैंक के बोर्ड ऑफ़ डायरेक्टर्स की होने वाली बैठक में दोनों पक्ष कुछ मुद्दों पर आपसी सहमति पर पहुंचने के लिए सहमत हैं.
बैठक में वित्त मंत्रालय के नामित निदेशक और कुछ इंडिपेंडेंट डायरेक्टर गवर्नर उर्जित पटेल और उनकी टीम पर एमएसएमई को कर्ज से लेकर केंद्रीय बैंक के पास उपलब्ध कोष को लेकर अपनी बात रख सकते हैं.

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल भी कुछ वर्गों का दबाव होने के बावजूद इस्तीफा देने की बजाय बैठक में केंद्रीय बैंक की नीतियों पर मज़बूती से पक्ष रख सकते हैं.
हवा फिर से हुई बेहद ख़राब, वजह?
टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर के मुताबिक़, दिल्ली का प्रदूषण 'बेहद ख़राब' स्तर पर आ पहुंचा है.
दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 326 दर्ज किया गया जो 'बेहद ख़राब' श्रेणी में आता है.
रिपोर्ट में कहा गया है कि प्रदूषक तत्वों के तितर-बितर होने के लिए हवा की गति काफ़ी अच्छी है.
साथ ही पराली जलाने की घटनाओं में कमी आई है और दिल्ली की मौजूदा स्थिति में इसका असर ना के बराबर है.  (पुरे भारत कि बड़ी खबर जानने के लिए यंहा विजिट करे: Click करे)
गंगा को मिलेगा राष्ट्रीय नदी का दर्जा?

गंगा के लिए स्वामी सानंद की मृत्यु के बाद आखिर केंद्र सरकार गंगा क़ानून को मूर्त रूप देने की तैयारी में जुट गई है.
इससे जुड़े राष्ट्रीय नदी पुनरुद्धार, संरक्षण एवं प्रबंधन बिल का मसौदा तैयार हो गया है. संसद के शीतकालीन सत्र में इस पर सरकार की बिल लाने की योजना है.
अमर उजाला की इस ख़बर में बताया गया है कि बिल पारित होते ही गंगा को राष्ट्रीय नदी का दर्जा मिल जाएगा. एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक़, मसौदे को अंतिम रूप दे दिया गया है.
गंगा की परिभाषा में अब तक गोमुख से गंगासागर तक को शामिल किया जाता था.
नई परिभाषा में अब पंच प्रयाग पर मिलने वाली सभी धाराओं को गंगा की परिभाषा में शामिल किया गया है.
अधिक जानकारी के लिए यंहा विजिट करे: Click On, (Special Thanks to https://m.dailyhunt.in and also credit goes to this official Site please visit for more update here)  please Follow to official site BHARTI PEOPLE and get more information with push notification., Thank you. visit again...

No comments:

Post a Comment

अग्निपथ योजना में नौकरी एयरफोर्स(Air Force) में आवेदन करने के लिए यंहा पढ़े पूरी जानकारी और Apply करे |

 Air Force Agneepath Recruitment 2022 – Apply Online for Agniveer Vacancy Information: Air Force Agneepath has published notification for th...